महिलाओं के चेहरे और शरीर में पुरुषों की तरह बाल हैं, तो हो सकते हैं ये कारण

महिलाओं के चेहरे और शरीर में पुरुषों की तरह बाल हैं, तो हो सकते हैं ये कारण

महिलाओं के चेहरे और शरीर में पुरुषों की तरह बाल हैं, तो हो सकते हैं ये कारण
Mar 04
16:152018
86

प्रकृति ने महिला को पुरुष से कई स्तरों पर अलग बनाया है। महिला और पुरुष की शारीरिक क्षमताओं में भेद है तो इनके शरीर के कई हार्मोन्स भी अलग हैं। इसी तरह महिलाओं और पुरुषों के कुछ विशेष अंगों को अलग-अलग क्षमताएं दी गई हैं, जिनके आधार पर हम स्त्री और पुरुष का भेद कर पाते हैं जैसे- गर्भधारण, मासिक चक्र आदि। शरीर के अंदरूनी बदलावों के अलावा दोनों में कुछ ऐसे बाहरी बदलाव भी हैं जो स्त्री और पुरुष की पहचान करने में सहायता करते हैं। जैसे महिलाओं में यौवन आने के साथ ही स्तनों का विकास शुरू हो जाता है जबकि पुरुषों के सीने में ज्यादा बदलाव नहीं आता है। इसी तरह पुरुषों के चेहरे पर दाढ़ी-मूंछ आना शुरू हो जाते हैं जबकि महिलाओं के चेहरे पर आमतौर पर ये नहीं आते हैं। लेकिन कई स्थितियों में कुछ हार्मोनल बदलावों के कारण स्त्रियों के चेहरे और शरीर पर भी पुरुषों की तरह बाल निकलने लगते हैं। बहुत सी महिलाओं में ये इतने कम होते हैं कि पास से देखने पर ही पता चलते हैं जबकि कुछ महिलाओं में ये इतने ज्यादा, घने और बड़े होते हैं कि दूर से देखने पर ही समझ आते हैं। महिलाओं के शरीर में इसी लक्षण को अंग्रेजी में हर्सुटिज्म कहते हैं।
हर्सुटिज्म के लक्षण
आमतौर पर महिलाओं के चेहरे, सीने और पीठ पर छोटे-छोटे रोएं होते हैं मगर पुरुषों के चेहरे पर दाढ़ी-मूंछ और सीने और पीठ में बाल होते हैं। हर्सुटिज्म ऐसी अवस्था है जिसमें पुरुषों की ही तरह महिलाओं के भी गाल, सीने और पीठ में बाल निकलने लगते हैं। हर्सुटिज्म के कारण निकलने वाले बाल आमतौर पर हल्के रंग के बजाय गहरे रंग के होते हैं। हमारे शरीर में एक विशेष हार्मोन है जिसे एण्ड्रोजन कहते हैं। पुरुषों में इस हार्मोन का लेवल बहुत ज्यादा होता है और यही उनमें पुरुषत्व के तमाम गुणों और बदलावों के लिए जिम्मेदार है। जबकि महिलाओं के शरीर में इसकी बहुत कम मात्रा होती है और सामान्यतः ये दबी अवस्था में होता है। कई बार कुछ हार्मोनल बदलावों के कारण महिलाओं के शरीर में इस एण्ड्रोजन का लेवल बढ़ जाता है और उनमें पुरुषों जैसे लक्षण उभरने लगते हैं। सामान्य से ज्यादा बाल निकलने के साथ-साथ एण्ड्रोजन का लेवल बढ़ने से अन्य कई समस्याएं भी स्त्रियों में नजर आ सकती हैं, जैसे-

ऊपरी होठों, निचले जबड़े, गर्दन, पेट और छाती में, गुदा द्वार और जांघों में बालों का आना
स्तनों का आकार बहुत छोटा होना
चेहरे पर बहुत अधिक मुंहासे आना
क्लोरिटस का बड़ा हो जाना
आवाज में भारीपन आ जाना