फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी को टक्कर देने के लिए बीएसपी-एसपी आए साथ

फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी को टक्कर देने के लिए बीएसपी-एसपी आए साथ

फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा उपचुनाव में बीजेपी को टक्कर देने के लिए बीएसपी-एसपी आए साथ
Mar 04
16:232018
75

गोरखपुर 
उत्तर प्रदेश में अब तक दो ध्रुवों पर खड़ी रही एसपी और बीएसपी ने गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट पर उपचुनाव के लिए गठबंधन का फैसला लिया है। इसके अलावा बीएसपी ने राज्यसभा चुनाव में भी एसपी उम्मीदवारों को समर्थन देने की बात कही है। गोरखपुर में हुई बीएसपी की बैठक में एसपी उम्मीदवारों को समर्थन देने का फैसला लिया गया है। पूर्वोत्तर राज्यों में बीजेपी के शानदार प्रदर्शन के बाद अब उसे पहली कड़ी टक्कर यूपी में मिल सकती है।
गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीटों पर 11 मार्च को चुनाव होने हैं और 14 मार्च को मतगणना होगी। दोनों सीटें बीजेपी के लिए इसलिए खास मायने रखती हैं क्योंकि गोरखपुर से मौजूदा सीएम योगी आदित्यनाथ और फूलपुर से डेप्युटी सीएम केशव प्रसाद मौर्य सांसद थे। इन दोनों के इस्तीफे के बाद ये सीटें खाली हो गईं थीं। 
राज्यसभा के लिए मायावती ने दिया समर्थन? 
उत्तर प्रदेश की राजनीति के जानकारों का कहना है कि संभवत: मायावती ने राज्यसभा में जाने के लिए भी समाजवादी पार्टी को समर्थन देने का दांव चला है। यूपी में 23 मार्च को 10 राज्यसभा सीटों के लिए चुनाव होना है। 1विधायकों वाली बीएसपी एक भी सीट जीतने की स्थिति में नहीं है, ऐसे में उसे एसपी से एक सीट पर समर्थन की उम्मीद है। 

राम लहर के बाद अब मोदी लहर में साथ आए एसपी-बीएसपी 
बता दें कि इससे पहले 1993 में एसपी-बीएसपी एक साथ चुनाव लड़ चुके हैं। तब लक्ष्य 'राम लहर' को रोकना था। तब एसपी-बीएसपी गठबंधन को 176 सीटें मिली थीं और बीजेपी को 177 सीटें। गेस्ट हाउस कांड के बाद गठबंधन टूटा तो दोनों दल कभी साथ नहीं आ पाए। हालांकि, अखिलेश यादव कई बार खुले मंच से गठबंधन का प्रस्ताव दे चुके हैं, लेकिन मायावती ने इनकार ही किया है।